fbpx

दम है गर तुझमें तो बता, सुन के अपने दिल की दिखा

 

 

ज़िंदगी एक जंग है, लड़ो
खुल के जीओ आगे, बढ़ो
दिल में जो है दफन, कहो
जो ना हो पसंद वो मत, सहो

न कोई हुआ है, न होगा, जिससे तुम डरो
जी लो जी भर के, यूँ थोड़ा-थोड़ा ना मरो

एक ही दिल है, एक ही जीवन है
सुनो इस दिल की, इससे ऊपर कोई नहीं
तुमसे बढ़कर न हुआ कोई, तुमसे आगे भी कोई नहीं

क्या है ज़िंदगी, गर खुद को भी ना सुन पाओ
क्या है ज़िंदगी, गर मुश्किलों से तुम डर जाओ

सफर ये लंबा है, अभी ना तुझे घबराना है
अभी तो बहुत कुछ तुझे पाना है

झूठा ही सही, हौसला तो दिखा,
मुनासिब है गर, तो लड़ के दिखा
ज़िंदगी को अपने हिसाब से चला

चल उठ, और खुद की सुन
लोग बोलते रहेंगे हमेशा
तू चलता जा अपनी ही धुन

वो जो देखा है सपना, उसकी ओर चल
ये वक्त भी तेरा है, तेरा है यहां हर एक पल।

1 thought on “दम है गर तुझमें तो बता, सुन के अपने दिल की दिखा”

Leave a Comment