fbpx
Indian People

अब जाकर लगा कि भारत के लोग समझदार हो गए हैं

आज से 10-15 साल पहले ऐसा नहीं था. देश के लोग इतने समझदार नहीं थे.

पहले लोग गुस्सा हो जाते थे. बात-बात पर बौखला जाते थे. एक छोटा सा World Cup 2019 सेमी-फाइनल हारने पर भी. पर अब ऐसा नहीं करते.

भारत 2007 में भी हारा था, 2015 में भी हारा था और अब 2019 में भी हार गया है. लेकिन लोगों में गुस्सा नहीं प्यार है. नफरत नहीं, इज़्ज़त है. अपने खिलाड़ियों के लिए और अपने देश के लिए.

मुझे भारत के हारने का दुख तो है, लेकिन गुस्सा नहीं. क्योंकि मैं जब भी ICC World Cup 2019 के प्वाइंट टेबल पर नज़र डालता हूँ तो भारत का नाम सब से ऊपर देख कर खुश हो जाता हूँ. ऐसा गजब का खेल तो किसी भी टीम ने नहीं दिखाया. भले ही हम सेमी-फाइनल हार गए लेकिन ये बात गौरतलब है कि न्यूज़ीलैंड की जीत से ज्यादा पूरी दुनिया में भारत की हार की चर्चा है.

World cup 2019
Source- Google

न्यूजीलैंड के जीतने से सिर्फ उन्हें ही फर्क पड़ा होगा. लेकिन भारत के हारने से पाकिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका और ना जाने कितने ही देशों में खुशी की लहर दौड़ी होगी. 

 

टीम के हारने पर पाकिस्तान की प्रतिक्रिया

जब पाकिस्तान भारत से 7वीं बार वर्ल्ड कप मैच हारा तो वहां के लोगों के रिएक्शन कुछ अच्छे नहीं थे. किसी ने उन्हें लाहौर भेज कर समोसे- कचौड़ियां खाने को कहा तो किसी ने टीवी फोड़ कर अपना गुस्सा जाहिर किया. और तो और पाकिस्तानी कप्तान सरफराज़ को भी काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा. हालांकि पाकिस्तान का प्रदर्शन इस बार इतना निराशाजनक भी नहीं था. लेकिन केवल भारत से हारने पर ही उन्हें ऐसी चीजें देखने को मिली.

फेसबुक पर हमें देखिए- यहां पर The IndiaGram

सेमी-फाइनल से उम्मीदें

मुझे या आपको ही नहीं बल्कि सभी को उम्मीद थी कि भारत आसानी से न्यूजीलैंड से जीतेगा और फाइनल खेलेगा. न्यूजीलैंड की बैटिंग इनिंग तक यह लग रहा था कि 240 रन बनाना भारत के लिए बेहद आसान है. रोहित शर्मा के आऊट होते ही 50 प्रतिशत उम्मीदें तो ढेर हो गई. जैसे ही भारत को 5 रनों पर 3 आऊट होते हुए देखा तो बाकि की बची उम्मीद भी खत्म हो गई. सिर्फ एक आखिरी उम्मीद थी- धोनी. वो भी 49वें ओवर में खत्म हो गई. भारत 18 रनों से हार गया.

 

भारत के लोगों की प्रतिक्रिया

अब पाकिस्तान के लोग और भारतीय मीडिया ताक लगाकर बैठा था कि कहीं भारत में कोई टीवी फूटे या कोई धोनी-कोहली के घर के बाहर पत्थर मारे तो मजा आए. मैच खत्म होने के बाद मैनचेस्टर स्टेडियम के बाहर कई पत्रकारों ने भारतीय लोगों से बहुत कुछ बुलवाने की कोशिश की. वो चाह रहे थे कि भारत के लोग भी अपने खिलाड़ियों को गालियां निकाले और कुछ वायरल मटीरियल मिल सके.

लेकिन ऐसा हुआ नहीं. भारत के लोगों की प्रतिक्रिया वाकई बहुत समझदारी वाली थी. ऐसा लग रहा है मानो सबने ‘स्पोर्टस कल्चर’ का लेसन पढ़ लिया हो. सबने भारतीय टीम के खेल की जमकर तारीफ की.  इक्का-दुक्का राखी सांवत जैसे बुद्धिजीवी हैं जो गालियां निकालते नज़र आए. बाकि सबने टीम की हार का स्वागत किया है.

अब लग रहा है कि भारत के लोग अब समझदार हो चुके हैं. वे जानते हैं खेल में एक ही टीम जीतती है और जरूरी नहीं हर बार हम ही जीतें. 

पाकिस्तान के लोगों को भारत से इस मामले पर सीखने की जरूरत है.

2 thoughts on “अब जाकर लगा कि भारत के लोग समझदार हो गए हैं”

Leave a Comment